Monday, 10 September 2018

Agar biki teri dosti | अगर बिकी तेरी दोस्ती

Agar biki teri dosti | अगर बिकी तेरी दोस्ती

Agar biki teri dosti,
Toh pehle kharidar hum honge,
Tujhe khabar na hogi teri keemat,
Par tujhe pakar sabse amir hum honge,
Dost sath ho toh rona bhi shaan hai,
Dost na ho toh mehfil bhi shamshan hai,

Sara khel dosti ka hai mere dost,
Warna janaja or barat ek saman hai..



 Muskurahat Ka Koi Mol Nahi Hota
 Kuch Risto Ka Koi Tol Nahi Hota
 Log To Mil Jate Hai Har Mod Par ..
 Har Koi Aap Ki Taraha Anmol Nahi Hota.....
मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है
वो हर शख्स को दानिस्ता* खफा करता है.


Agar biki teri dosti | अगर बिकी तेरी दोस्ती
अगर बिकी तेरी दोस्ती
                             



1.ये बुलंदियाँ किस काम की दोस्तों, की इंसान चढ़े और इंसानियत उतर जायें.

2.जहाँ मोहब्बत धोखा देती है , दोस्ती वहाँ सहारा देती है

3.सालो बाद मिले थे, हम एक दूसरे से उसकी गाडी बड़ी थी और मेरी दाढ़ी…।

4.अगर तू साथ हैं..ये दोस्त… रास्तों में कितने भी काँटे सही और हमें मंज़िल मिले या ना मिले कोई फ़र्क़ नहीं     पड़ता…

5.दोस्ती एक एहसास है .. जरुरत है , बिना दोस्त के ज़िन्दगी बेकार है …

6.आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं

7.जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं...



TAG:Agar biki teri dosti ,अगर बिकी तेरी दोस्ती,agar biki teri dosti lyrics

0 comments:

Post a Comment